Society

ओह, इतनी उम्र में भी इतना कठिन आसन कैसे लगा लेते है!

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पूरी दुनिया में जोरदार तरीके से मनाया गया। बहुत सारे नये रिकॉर्ड बने। इस दिन बालक से लेकर बुजुर्ग तक योग के रंग में रंगे नज़र आए। भारत के लिए यह पर्व अति विशेष था क्योंकि योग दिवस को मनाने की यह परंपरा भारतीय प्रधानंत्री नरेंद्र मोदी के अथक प्रयासों से ही शुरू हो पायी। विश्व समुदाय ने यह स्वीकार किया कि योग किसी धर्म की सीमा से बंधा नहीं है बल्कि यह समूचे मानव समाज के स्वास्थ्य को बेहतर रखने का सटीक उपाय है। यही वजह है कि पूरी दुनिया आज भारतीय ऋषि-मुनियों द्वारा दिए गए इस विज्ञान का लोहा मान रही है।

आप जानते होंगे कि नियमित योगासन करने वाले व्यक्ति का शरीर रबर की तरह मुलायम बन जाता है। अक्सर देखने में आता है कि बच्चे कठिन से कठिन योगासनों को बड़ी सहजता से करते है। पर बुजुर्गों के लिए ऐसा सम्भव नहीं हो पाता।

IMG_20180618_151102.jpg

आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे है, जिसने कुछ दिनों के अभ्यास के बाद शरीर को इतना मुलायम बना दिया कि 70 की उम्र में भी योग के सबसे कठिनतम आसनों को यूं चुटकियों में कर लेते है। ये है राजस्थान के बाड़मेर जिले में रहने वाले मांगाराम पुरोहित। जिन्हें देखकर आपको आश्चर्य होगा कि वे उन आसनों को बड़ी आसानी से कर लेते है, जिन्हें नियमित योग करने वाला एक बच्चा बड़ी मुश्किल से कर पाता है। ‘

पश्चिम उत्तानासन यानि हाथ को पैर के पंजों से मिलाकर ठुड्डी को घुटने से स्पर्श करने वाला आसन। दरअसल, इस आसन को हर कोई पूर्ण रूप से नहीं कर पाता है, आप प्रयास करके देख सकते है, बड़े अभ्यास के बाद हाथों को पैर के पंजों से मिला पाएंगे और ठुड्डी को घुटने तक पहुंचने में कई साल बीत जाएंगे। पर ये मांगीलाल, जिन्होंने कोई लंबा अभ्यास भी नहीं किया, बड़ी आसानी से पश्चिम उत्तानासन कर लेते है।

एकपाद शिरासन- योग के सबसे कठिन आसनों में से एक एकपाद शिरासन में एक पैर को सर के ऊपर से लेते हुए कंधो पर ले जाते है जैसा कि आप फोटो में देख रहे है। इस आसन को मांगाराम बिना किसी सहायता के चंद सेकंडों में कर लेते है और बहुत देर तक होल्ड भी रख सकते है।

मांगाराम कहते है पिछले कुछ वर्षों से योग के चर्चे बहुत सुने तो दो महीने पहले मन में ख्याल आया क्यों न मैं भी योग करू। और जब आसन करने शुरू किए तो स्वयं भी हैरत में पड़ गया कि इतने कठिन आसनों को बड़ी सहजता से कैसे कर पाता हूँ ? इससे पता चलता है कि अन्तराष्ट्रीय योग दिवस ने केवल देश-दुनिया के युवाओं में जागरूकता नहीं लाई है बल्कि बड़े-बुजर्गों में भी योग के प्रति उत्साह जागृत किया है।

Author- Raju Ram

Advertisements

0 comments on “ओह, इतनी उम्र में भी इतना कठिन आसन कैसे लगा लेते है!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: